Pathan shayari | पठान शायरी | Pathan attitude status for pathan bhai

Dhasu royal Pathan shayari – इस पोस्ट में हम पठानों के लिए पठान शायरी और पठान स्टेटस का कलेक्शन शेयर किए हैं. ताकि पठान भाई लोग अपनी जलवा और अपनी एटीट्यूड दिखाने के लिए शायरी का उपयोग कर सकते हैं. यह पठार वाली शायरी कहां पर रॉयल है. जिस पे स्लिप पठान के लिए शायरी बनाई गई है इस शायरी का उपयोग पठान भाई शायरी को कॉपी करके अपने फोटो के साथ डिजाइन कर सकते हैं.

pathan shayari

कहानिया तो छोटे मोटे राजा की लिखी जाती है,
हम तो पठान है हमारा तो इतिहास लिखा जाएगा।

देखो भाई लोग हम पठान है,
हम से कायदे मे रहोगे तो फायदे मे रहोगे।

तुझे क्या लगता है तेरे जाने का गम होगा होगा,
नही मेरी जान सिर्फ एक Contact कम होगा।

ठाढी #देही, चौड़ी #Chati ,,,
सै यो #टोरा गात का…
ज्यातै #Duniya में सबतै न्यारा,,,
दिखै सै यो छोरा #Pathan का…।।

लोग कहते है तुम ऐटिटूड बडा दिखाते हो,
देख बेटा भगवान कि देन है ऊपर से पठान है छिपायेगे थोडी।

Pathan के ठाठ देख कर तोआजकल…..
शहर की छोरियां भी कहण लाग री है।
ना #दवा चाहिए ना #dard चाहिए…
हमें तो बस #Pathan का छोरा चाहिए।।….

Hum भी ‪#‎खुद_को‬ Itna ‪#‎बदलेंगे‬ ‪#‎Ek_Din,
कि ‪#Log‬ ‪#‎तरसजाएंगे‬ हमें ‪#‎पहलेजैसा‬ ‪#‎देखने‬ के ‪#‎लिए‬ ।
{{ छोरा #Pathan का }}

Sanam इस जनम में
तू ही तो है एक #Phool हमारे चमन में
देखते हैं जब जब Tujhko
खलबली मच जाती है पूरे बदन में ||

Talwaar बन्दूक से खेला करूं,
मुझे डर नहीं चौकी – थाने का,
मैं छाती ठोक के कहता हूँ,
मैं छोरा हूँ #Pathan का

सुन# Pagli # तू #जब #चलती# है ,
तो #ज़माना #रुक #जाता #है
जब #Pathan 💕#का #💟छोरा 💟#चलता #है
तो #Zamana# 👌झुक👌# जाता# है👌

ना Police से डरता हु”ना जेल जाने से””लाशों के ढेर बिछाना हम भी जानते है़़़़
लकिन डरते हे Ghar के संस्कारो से क्योकि कल Duniya यह कहेगी
देखो #Pathan का छोरा दादागिरी कर रहा हे

गाडी मै डंडे लाया Hu,,
मै Tod Fod फोड़ कै धर दू गा..
एंडी ना पाक्कै साले,,
Chaati मै #पीतल की छ: की छ: भर दू गा…

वो #Pathan ही क्या जिसकी ज़िंदगी मैं ठाठ नहीं*
और डूब के मर जा वो छोरी, जिसकी Jindagi में पठान नहीं !!*
Pathan का छोरा raj

भाई गैंग में देशी छोरा पठान का देखते है ,
भाई गैंग के सामने कोन आता है,
पठान पठान पठान पठान भाई गैंग भाई गैंग भाई गैंग भाई गैंग।

कागजो पर तो अदालते चलती है,
हम तो पठान धराने के छोरे है फैसला on the spot करते है।
पठान

तलवार बन्दूक से खेला करूं मुझे दर नहीं चौकी ने का,
मैं छाती ठोक के कहता हूँ मैं छोरा हूँ पठान घराने का।

Royal pathan shayari |

ज़्यादा उड़ो मत वरना
 ऐसे ही धुंए की तरह
 उड़ा देगा यह पठान 

पठान  वह है जो 
प्यार में जन्नत दिखा 
सकता है और नफरत 
में औकात भी

फैनस तो सेलिब्रिटी 
के होते है पठान  के तो 
 चाहने वाले है

नाम मिटाने की औकात
 नही ओर चले है पठान  को मिटाने

ऊंची पहोच के नही
 लाडले ऊँची सोच
 के फैन है हम पठान  

घना शेर बनने की
 कोशिश मत कर
 शहर छुड़वा देगा यह पठान 

उस मुकाम पे पठान  का 
चिराग जलता है 
जहाँ पहुँच के हवाओ
 का दम निकलता है

घर वालो को गुरूर है 
उनका पठान  बेटा बहुत मसूर है। 
भूल मत पठान  भी शेर है 
कुछ और नही बस पठान  के
दहाड़ने की देर है।

शहर मे सन्नाटा छा गया
जब लोगो ने सुना पठान 
 वापस आ गया

तू जिसके भी साथ है
 खुश रह क्योंकि इस पठान 
को घण्टा भी फर्क नही
 पड़ता तेरे होने या न होने से..।

मैं जैसा हु वैसा ही रहने
 दो अगर यह पठान  बिगड़ गया तो 
संभाल नही पाओगे

इस पठान  भूल जाओ मगर 
इस पठान  की एक बात याद रखना
 दोस्ती और दुआ में अपनी
 नियत साफ रखना

पठान  करेले की तरह
 कड़वे ही अच्छे है
क्योंकि जो मीठे होते है
 वो पठान  नही होते

इस पठान  को बदलता हुआ सिर्फ
 मौसम पसंद है लोग नही

ये दुनिया नकली ओर 
इस पठान  का हिसाब 
किताब असली है

याद रखना पठान  जैसे
 तो बहुत मिलेंगे 
पर पठान  नही मिलेगा

औकात क्या होती है 
ये पठान  बताएँगे
वक़्त आने दो जरा
 सबको नाचाएँगे

तू समंदर नही गटर का 
नाला था इस पठान  ने दोस्त नही 
ज़हरीला साँप पाला था

हाथ मे पकड़ी चीज 
तो कुत्ते भी छीन लेते 
है इस पठान  के नसीब से छीन ke
 दिखा तो मानु

कैरेक्टर पे उंगली मत
 उठाइओ वरना दुनिया
 से उठा देगा यह पठान  

जो खुद को बहुत कुछ 
समझता है पठान  उसे कुछ
 नही समझता

बेटा फर्क सिर्फ इतना है 
जहाँ तेरे संपर्क है वहाँ इस पठान  के संबंध है

लाडलो तुम्हारे इस पठान  भाई को दो
 ही चीजे पसंद है एक चलती
 बस पर लटकना दूसरा तेरी
 भाभी का मटकना

आदते ख़राब नहीं, शौक़ ही ऊचें है,
नही तो ख्वाबो की इतनी हिम्मत कहा की पठान देखे और पूरा न हो..!
पठान

मुझे हरा कर कोई मेरी जान भी ले जाये मुझे मंजूर है,
लेकिन धोख़ा देने वालों को मै दोबारा मौका नहीं देता
#पठान

ताज कि फिकर तो बादशाहों को होती हे हम तो पठान हे
और पठान अपनी सियासत खुद लेकर चलते हे|

तलवाR बन्दूक से खेला करूं,
मुझे डर नहीं चौकी – थाने का मैं छाती ठोक के कहता हूँ,
मैं छोरा हूँ पठान घराने का !

हमको जंजीरो में कैद करने का सपना मत देख.. क्युंकि हम वो आदमखोर शेर हैं,
जिसका भी शिकार करतें हैं, उसका जिस्म तो क्या रूह भी दम तोड़ देती हैं।
#पठान

शेरो को ही मिलती है पनाह गुफाओ मे,
यूं ही हर शख्स पठान के घर पैदा नही होता….!

जालिम जमाने ने सिखा दिए ये तेवर..
वरना हम पठान भी कभी सीधे हुआ करते थे

जिसने देखा पठान का अंदाज वो सदमे में है,
तभी तो पूरी दुनियां पठान के कदमो में है..!

बंदूक ओर तलवार जैसे खिलौने बजार मे बहोत बिकते हैं..
पर उसे चलाने का जिगर दुनिया के किसी बाजार मे नहीं बिकता..
उसे पठान लेकर ही पैदा होता है..!!

पठानों से पंगा नही लेना चाहिए,
क्योकी:- जिन तुफानो मेँ लोगो के घर उजड जाते है,
उन तुफानो मेँ पठान अपने अंडर गारमेंट्स सुखाते है ॥

मत लो  मेरे सब्र  के बाँध का इम्तेहान,
जब जब  ये टूटा है तूफ़ान ही आया है !
पठान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *