Rishte ghamand shayari | रिश्ते घमंड शायरी

इस पोस्ट में हम रिश्ते घमंड शायरी का बेहतरीन कलेक्शन शेयर किया जिसमें आपको मतलबी रिश्ते घमंडी शायरी पढ़ने के लिए मिल जाएंगे जिससे आपको घमंडी लोग के ऊपर जो शायरी सूट करता है. उन्हें पढ़ सकते हैं लोग पैसे के घमंड में अच्छे अच्छे रिश्ते भूल जाते हो और अपना एक अलग ही घमंड दुनिया बना लेते हैं. इन सब चीजों को शायरी के माध्यम से बताने के लिए हमने रिश्ते घमंड शायरी हिंदी में पढ़ने के लिए शेयर किया है.

Rishte ghamand shayari

किस बात का इतना घमंड,
किस बात का इतना गुरूर,
वक़्त के हाथों बने सब शेर,
वक़्त ही करे सब चकनाचूर।

लोगों को घमंड है
अपनी दौलत और शौहरत पर,
दिल कैसा था ये तो
जनाजे की भीड़ बताएगी।

हम खुदा से उस शक्स को
पाने की दुआ कर बैठे है,
जिसे खुद के होने पे ही
इतना घमंड है।

घमंड से भी अक्सर
खत्म हो जाते है कुछ रिश्ते,
कुसूर हर बार गलतियों
का ही नहीं होता !!

जिनमें कुछ नहीं होता है ना !!
उनमें घमंड बहुत होता है !!

घमंड किस बात का है जनाब !!
आज मिट्टी के ऊपर हैं तो कल मिट्टी के नीचे होंगे !!

यूं मुझे एसे और सबर ना करवा !!
तेरी राह देखते कोई मेरी कबर ही ना तैयार करवा दें !!

मेहनत करने वाले !!
व्यक्ति को घमंड नहीं होता है !!

तोड़ना हीं है अगर तो घमण्ड तोड़ना !!
रिश्तें तो ग़लतफहमी में भी टूट जाते हैं !!

खुद के अंदर भी सबसे अलग एट्टीट्यूड रखना चाहिए !!
क्योंकि लोग ego में ज्यादा रहते हैं !!

Matlabi rishte ghamand shayari

कहीं का ग़ुस्सा कहीं की घुटन उतारते हैं !!
ग़ुरूर ये कि हम काग़ज़ पे फ़न उतारते हैं !!

अर्ज़ किया है-
  किसी भी बात का घमंड करोगे ,
  तो बाद में बेहद पछताओगे। 
  क्यूंकि घमंड सब कुछ चूर है करता,
  जिसका है घमंड उसको आपसे दूर करता।

अर्ज़ किया है-
 जब घमंड इंसान के सिर पे चढ़ जाता है ,
 तब इंसान कुछ देख नहीं पाता है। 
 और जब घमंड चूर-चूर होता है ,
 तो हर रिश्ता उस इंसान से दूर होता है

अपने ही अपनों के खिलाफ करते हैं षड्यंत्र,
उस षड्यंत्र में फंस रिश्ते हो जाते है तार–तार,
मीठी कैची की तरह चलती है उसकी जुबान ,
बेवजह नहीं आती है रिश्तों में दरार ।

एक क्षण लगता हैं,
रिश्तों का मजाक उड़ाने में,
और सारी जिंदगी बीत जाती हैं,
एक रिश्ते को बनाने में |

घमंड किसी का भी
नहीं रहता साहब टूटने से
पहले गुल्लक को भी लगता है
कि सारे पैसे उसी के है..!”

घमंड करने से क्या होगा,
जो है वो भी खो जाएगा।
आखिर लेकर क्या जाना है,
यहाँ का है यहीं रह जाएगा।

“घमंड भी किस बात का करें हम,
जिस इंसान को बेहद पसंद थे ।।
आज उन्हीं को हमारे अन्दर,
हजारों कमियां दिख रही हैं ।।

घमंड का भी क्या खुमार होता है जनाब
जब तक होश आता है
तब तक इस ज़िन्दगी से बहुत कुछ दूर हो चुका
होता है।”

एक बात याद रखना
घमंड के दिन चार होते है,
समय जब आता है ना
तब हर तरफ से वार होते है.

घमंड किस बात का है?
जब सोने-चाँदी में नहीं, मिट्टी में
ही जा मिलना है तुम्हें।।”

अक्सर ताले वही टूटते हैं जिन्हें अपने बड़े होने
का घमंड होता है।…

सुन्दर दिल वाले से प्यार करना चाहिए,
अक्सर खूबसूरत चेहरे के पीछे घमंड छिपा होता है।

घमण्ड एक ऐसी दीमक है !!
जो आपके सभी रिश्तों को खा जाएगी !!

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *