Mutual funds क्या होता हैं ? म्यूचुअल फंड क्या होता है

Mutual funds एक ऐसा निवेश विकल्प है जिसमें एक समूह के निवेशकों के धन को एकत्रित कर एक विशेष वित्तीय उत्पाद बनाया जाता है। यह निवेश उत्पाद फिर से अन्य निवेशकों को बेचा जाता है जिससे निवेशकों को निवेश करने के लिए अलग-अलग विकल्प मिलते हैं। Mutual funds विभिन्न प्रकार के होते हैं, जैसे कि Equity Fund, Index Fund , Debt Fund और अन्य विशेष फंड भी होते हैं। ये निवेशकों को एक बहुत बड़े निवेश पोर्टफोलियो में निवेश करने की सुविधा प्रदान करते हैं जिससे उन्हें अपनी निवेश रिस्क को कम करने और अधिक लाभ प्राप्त करने का मौका मिलता है।

Mutual Funds में 2 तरीके से इन्वेस्ट कर सकते हैं l

SIP (Systematic Investment Plan)

यह एक invest plan होता है जिसमें निवेशक नियमित अंतराल पर निश्चित राशि का निवेश करते हैं। साधारण तौर पर, investor को महीने के निश्चित दिन पर एक निश्चित राशि का निवेश करना होता है। निवेश की राशि निवेशक की पसंद और निवेशक के वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर चुनी जाती है।

Lumpsum

Lumpsum एक निवेश विधि है जिसमें एक बार में एक बड़ी राशि निवेश की जाती है। इस विधि में investor एक बार में निवेश के लिए संपूर्ण राशि जमा करता है। इस तरह के निवेश से, निवेशक को लंबे समय तक निवेश के लाभ का आनंद मिलता है।

Mutual funds

Mutual funds विभिन्न प्रकार के होते हैं। ये निम्नलिखित हैं:

  • Equity Fund– जो शेयरों में निवेश करते हैं।
  • Index Fund – जो एक विशेष शेयर या बॉन्ड के इंडेक्स के अनुसार निवेश करते हैं।
  • Bond Fund – जो अपने निवेशों को बॉन्डों में करते हैं।
  • Dbt Fund– जो सीधे निवेशकों के बैंक खातों से पैसे उठाते हैं और उन्हें निवेश करते हैं।
  • Debt Fund– जो बॉन्डों और अन्य ऋणों में निवेश करते हैं।
  • Equity linked saving scheme (ELSS Fund)– Tax Saving Mutual Funds
  • Gold Fund – जो सोने या सोने के बाजार में निवेश करते हैं।

इनके अलावा भी अन्य विशेष फंड भी होते हैं, जो विभिन्न निवेश विकल्पों में निवेश करते हैं।

1. Equity Fund की जानकारी

एक निवेश फंड होता है जो शेयरों में निवेश करता है। यह फंड आमतौर पर लंबे समय के लिए निवेश किया जाता है और इसका मुख्य उद्देश्य निवेशकों को उनके निवेश से उच्च मात्रा में लाभ प्रदान करना होता है।

Equity Fund के माध्यम से निवेशकों को विभिन्न विभागों, कंपनियों, क्षेत्रों और निर्देशिकाओं में निवेश करने का मौका मिलता है। यह फंड लंबी अवधि के लिए निवेश किया जाता है ताकि निवेशकों को शेयर बाजार की वोलेटिलिटी से बचाया जा सके और वे लंबे समय तक संगठित और विश्वसनीय निवेश के माध्यम से अपने पूंजी को बढ़ा सकें।

Equity Fund विभिन्न श्रेणियों में उपलब्ध होते हैं, जैसे कि Large-Cap Fund, Mid-Cap Fund, Small-Cap Fund आदि। ये फंड अपनी निवेश धारा के आधार पर विभिन्न आयामों में फॉलो किए जाते हैं और निवेशकों को विभिन्न निवेश विकल्पों की पेशकश करते हैं।

1.1 Large-Cap Fund

Large-Cap Fund फंड एक प्रकार का Equity Mutual Fund होता है जो उन शेयरों में निवेश करता है जो बड़ी कंपनियों (जिनकी मार्केट कैप बड़ी होती है) से संबंधित होते हैं। इसका मतलब होता है कि Large-Cap Fund कंपनी के मूल्य के साथ चलते हैं जिससे उन्हें निवेशकों के द्वारा प्राप्त किए जाने वाले आय से लाभ होता है।

Large-Cap Fund बड़ी कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं जिनकी मार्केट कैप बड़ी होती है। इसका मतलब होता है कि इन फंडों में निवेशकों को सम्भावित रूप से कम रिस्क होता है क्योंकि बड़ी कंपनियों के शेयरों का मूल्य सामान्यतया अधिक स्थिर होता है और इसलिए उनके नुकसान की संभावना कम होती है। इसलिए, निवेशकों को इन फंडों का उपयोग लंबे समय तक निवेश के लिए करना चाहिए जिससे उन्हें संभावित रूप से अधिक लाभ हो सकता है।

1.2 Mid-Cap Fund

Mid-Cap Fund एक प्रकार का इक्विटी म्यूचुअल फंड होता है जो मध्यम कैप शेयरों में निवेश करता है। इसका मतलब होता है कि ये फंड उन शेयरों में निवेश करते हैं जो कंपनियों की मार्केट कैप के आधार पर बड़ी कंपनियों से छोटी और छोटी कंपनियों से बड़ी होती हैं।

Mid-Cap Fund कंपनियों की निवेश करते हैं जो नए बाजार में हैं और अपने क्षेत्र में वृद्धि और विस्तार कर रहे हैं। इसलिए, इन फंडों में निवेश करने से निवेशकों को बड़ी कंपनियों के शेयरों की तुलना में थोड़ा ज्यादा रिस्क होता है, लेकिन उन्हें इन्हें लंबे समय तक निवेश के लिए रखने से अधिक लाभ मिलता है।

Mid-Cap Fund का मुख्य लक्ष्य सामान्यतः छोटी कंपनियों की शेयरों में निवेश करने से वृद्धि करना होता है जो अपने क्षेत्र में सफलता हासिल कर रही हैं

1.3 Small-Cap Fund

Small-Cap Fund एक प्रकार का इक्विटी म्यूचुअल फंड होता है जो छोटी कंपनियों में निवेश करता है। ये फंड उन कंपनियों में निवेश करते हैं जो मार्केट कैप शेयर के आधार पर बड़ी और मध्यम कंपनियों से छोटी होती हैं।

इन फंडों में निवेश करने से निवेशकों को अपनी निवेश समझौते की क्षमता बढ़ती है। ये फंड कंपनियों के बढ़ते हुए विस्तार के लिए निवेश करते हैं जो छोटे निर्माण उद्योग से लेकर स्वतंत्र व्यवसायों तक हो सकते हैं।

Small-Cap Fund में निवेश करने से निवेशकों को छोटी कंपनियों के उच्च वृद्धि और बढ़ते हुए आय के पोटेंशियल से लाभ होता है। इसके अलावा, ये फंडों आमतौर पर बड़ी और मध्यम कंपनियों के शेयरों की तुलना में ज्यादा उच्च रिस्क वाले होते हैं।

2. Bond Fund की जानकारी

Bond Fund एक निवेश फंड होता है जो रिटर्न के लिए सरकारी और गैर-सरकारी बॉन्ड और अन्य वित्तीय संस्थाओं द्वारा जारी किए गए विभिन्न वित्तीय संरचनाओं में निवेश करता है। यह फंड आमतौर पर निवेशकों को निवेश की रक्षा और मात्रा दोनों के साथ निर्धारित निर्धारित आय प्रदान करता है।

Bond Fund के लिए निवेशकों को अनुमति दी जाती है कि वे बॉन्ड मार्केट के माध्यम से बाजार में निवेश करें, जो कम जोखिम वाला होता है और निवेशकों को बाजार में लंबी अवधि तक निवेश करने की अनुमति देता है।

Bond Fund विभिन्न श्रेणियों में उपलब्ध होते हैं, जैसे कि ट्रेजरी बिल फंड, कॉर्पोरेट बॉन्ड फंड, सरकारी बॉन्ड फंड आदि। इन फंडों के विभिन्न विनियमों और निवेश धाराओं के आधार पर निवेशकों को विभिन्न निवेश विकल्पों की पेशकश की जाती है, जो वित्तीय सुरक्षा और उच्च निवेश का संतुलन प्रदान करते हैं।

3. Debt Fund की जानकारी

Debt Fund एक विशेष प्रकार का म्यूचुअल फंड होता है जो अक्सर निवेशकों की निवेश धारा के आधार पर निवेश करता है। इन फंडों में निवेशकों की निवेश धारा का उपयोग करके, फंड में संग्रहीत करेंट डेटा का उपयोग करते हुए इंट्राडे निवेश किया जाता है।

यह फंड निवेशकों को मार्केट दिन के अंत में नए निवेश के रूप में निवेश करने की अनुमति देता है या निवेशकों को पहले बेचे जाने की अनुमति देता है जब बाजार ऊपर जाता है और बाजार नीचे जाता है जब निवेशकों को नुकसान का खतरा होता है।

Debt Fund में निवेश के लिए कम समय अवधि की आवश्यकता होती है, जो इन्हें लोगों के लिए आकर्षक बनाती है जो वित्तीय बाजार में निवेश करना चाहते हैं लेकिन बाजार की गतिशीलता से घबराते हैं।

4. DBT Fund की जानकारी

DBT fund का पूरा नाम “Direct Benefit Transfer Fund” है, जो सरकार द्वारा स्थापित किया गया एक निवेशकों के लिए समर्पित फंड है। यह फंड सरकार द्वारा संचालित किया जाता है और इसका उद्देश्य सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्रदान करना है।

DBT Fund में निवेश करने से निवेशक सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों के लिए निर्धारित निधियों में निवेश कर सकते हैं और इससे सरकार द्वारा वित्तीय सहायता के लिए प्रदान किए जाने वाले पैसे का सही उपयोग होता है। इस फंड में निवेश के लिए निवेशकों को कोई न्यूनतम निवेश राशि की आवश्यकता नहीं होती है और यह एक लंबे समय तक निवेश के लिए उपलब्ध होता है।

DBT Fund के माध्यम से निवेश करने से निवेशकों को अधिक लाभ हो सकता है, क्योंकि यह फंड सरकार द्वारा संचालित किया जाता है और निवेशकों को अधिकतम निःशुल्क सुविधाएं और छूट प्राप्त करने की संभावना होती है।

5. ELSS Fund की जानकारी

Tax Saving Mutual Fund एक विशेष प्रकार का Mutual Fund होता है जो निवेशकों को आयकर बचाने के लिए उपलब्ध होता है। इसमें निवेशकों को अधिकतम 1.5 लाख रुपये की छूट मिलती है जो भारतीय आयकर विधि के अंतर्गत सेविंग्स के लिए प्रदान की जाती है।

ये फंड अक्सर इको-फ्रेंडली होते हैं और उचित रिटर्न के साथ दायरा वित्तीय निवेशों में निवेश करते हैं। इन फंडों के निवेशकों को अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए निवेश की अवधि कम से कम 3 साल की होनी चाहिए।

यह फंड निवेशकों को न केवल आयकर बचाने में मदद करते हैं बल्कि निवेशकों को वित्तीय लक्ष्यों तक पहुंचने में भी मदद करते हैं। इन फंडों में निवेश करने से निवेशकों को न सिर्फ टैक्स छूट मिलती है बल्कि उन्हें स्थिर और उचित रिटर्न भी प्राप्त होते हैं।

6.Gold Fund की जानकारी

Gold Fund एक प्रकार का म्यूचुअल फंड होता है जो स्वर्ण या गोल्ड से संबंधित होता है। इस फंड में निवेशकों के पैसे स्वर्ण में निवेश किए जाते हैं जो इससे संबंधित वित्तीय उपकरणों द्वारा प्रबंधित किए जाते हैं।

Gold Fund को सबसे अधिक संभावित तरीके से स्वर्ण की कीमतों में वृद्धि की उम्मीद होती है। यह निवेशकों को स्वर्ण के जीवंत बाजार में निवेश करने की सुविधा प्रदान करता है जिससे निवेशकों को स्थिर रिटर्न की संभावना होती है। गोल्ड फंडों के माध्यम से निवेशकों को स्वर्ण में निवेश करने की आवश्यकता नहीं होती है, इसलिए इन फंडों का उपयोग स्वर्ण के निवेश के लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

Gold Fund के अलावा, स्वर्ण से संबंधित अन्य वित्तीय उपकरण भी होते हैं जो गोल्ड से संबंधित होते हैं, जैसे कि स्वर्ण एक्सचेंज ट्रेड फंड (Gold ETFs) और सोने के सामान के निष्कर्ष (Gold Sovereign Bonds)।

Index fund और Active fund दो अलग-अलग निवेश विधियों होते हैं।

Index fund – इंडेक्स फंड में निवेश प्रबंधक एक स्थिर निवेश विधि का उपयोग करता है। इन फंडों में निवेश इंडेक्स के अनुसार किया जाता है, जो एक निश्चित समय में दी गई समूह शेयरों का दर दर निर्धारित करता है। इसका मतलब है कि इंडेक्स फंड उन शेयरों में निवेश करते हैं जो इंडेक्स में शामिल हैं। इस प्रकार के निवेश विधि के कारण इंडेक्स फंड में निवेश का

Active fund– एक्टिव फंड में निवेश प्रबंधक एक सक्रिय भूमिका निभाता है और उनका लक्ष्य अधिकतम निवेश रिटर्न प्राप्त करना होता है। ये फंड अपनी निवेश विधि के आधार पर शेयरों का चयन करते हैं जो उन्हें ज्यादा फायदा दिखाते हों और टाइम टू टाइम पोर्टफोलियो में बदलाव करते हैं। एक्टिव फंड का निवेश निर्णय उनके मूल्यांकन, विश्लेषण, और मार्केट ट्रेंड के आधार पर लिया जाता है।

Net Asset Valu (NAV) क्या है?

NAV का पूरा नाम “Net Asset Value” होता है। यह एक निवेश फंड (Investment Fund) का मूल्यांकन करने का मापदंड होता है। निवेश फंड एक तरह की निवेशकों की धनराशि को एकत्रित करने वाली फंड होती है, जिसे फंड मैनेजर निवेश करते हैं।

NAV का मूल्य निवेशकों के लिए महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यह उनके निवेश का मूल्य दर्शाता है। NAV फंड के सभी निवेशों की वर्तमान मूल्य का एक अच्छा मापदंड होता है।

NAV की गणना करने के लिए फंड में निवेश के सभी जमा और निकासी की राशियों को जोड़ा जाता है और इसके बाद फंड के शेयरों की कुल संख्या से विभाजित किया जाता है। इस प्रक्रिया के बाद जो राशि मिलती है, उसे फंड के एक शेयर के मूल्य से विभाजित करके NAV मूल्य प्राप्त किया जाता है।

NAV की मात्रा फंड के निवेश की प्रदर्शिति के लिए महत्वपूर्ण होती है। एक फंड के NAV मूल्य में वृद्धि उसकी अच्छी प्रदर्शन की निश्चित निशानी होती है, जबकि एक फंड के NAV मूल्य में गिरावट उसके बुरे प्रदर्शन

New Fund Offer (NFO) क्या है?

NFO का पूर्ण रूप “New Fund Offer” होता है। यह एक नया निवेश फंड शुरू करने का आमंत्रण होता है। नए फंड ऑफर के दौरान, निवेशक फंड में नए शेयरों को खरीद सकते हैं और इस प्रकार फंड के नए निवेशक बन सकते हैं।

NFO एक निवेशकों के लिए एक अच्छा मौका होता है जो नए निवेश फंड में निवेश करना चाहते हैं। इन निवेशकों को नए फंड के मूल्यांकन के लिए नए मापदंडों के बारे में जानने का मौका मिलता है।

NFO शुरू होने से पहले, फंड हाउस एक दस्तावेज़ पेश करता है, जो फंड के नियमों, निवेश के माध्यमों और फंड की विवरण को स्पष्ट करता है। निवेशकों को इस दस्तावेज़ को पढ़कर फंड की जानकारी और उसमें निवेश के नियमों को समझने का मौका मिलता है।

एक NFO के बाद, फंड के शेयरों का नामकरण और शेयरों की मूल्य निर्धारित किए जाते हैं। इसके बाद, शेयरों को खरीदने वाले निवेशकों को शेयरों के आधार पर नए फंड में निवेश करने का मौका मिलता है।

भारतीय कानून नियम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *